brah.ma Logoपरिवर्तनं भव

Loading...

श्री रामोत्सव - प्रतिष्ठा वर्ष

550+ वर्षों के सबसे बड़े परिवर्तन उत्सव में शामिल हों

श्री रामोत्सव - प्रतिष्ठा वर्ष

Start your journey of change with a sankalp today!

हिंदू नव वर्ष 2024, विक्रम संवत 2081

SARASWATI MANTRA

ॐ ऐं ह्रीं श्रीं वाग्देव्यै सरस्वत्यै नमः॥

Om Aim Hreem Shreem Vagdevyai sarasvatyai Namah॥

0
0

'ॐ ऐं ह्रीं श्रीं वाग्देव्यै सरस्वत्यै नमः' यह मंत्र संस्कृत में है और इसे सरस्वती माता के नाम से जाना जाता है। सरस्वती माता विद्या, ज्ञान, कला और संस्कृति की देवी हैं। इसलिए इस मंत्र का जप शिक्षा, ज्ञान और कला के लिए उपयोगी होता है। इस मंत्र का जप करने के लिए, आप एक शुद्ध मन से बैठें और दैनिक पूजा विधि के अनुसार पूजा करें। फिर ध्यान केंद्रित करें और धीरे से इस मंत्र को जपें। आप इस मंत्र का अधिक से अधिक जप कर सकते हैं, जिससे आपको अधिक लाभ हो सकता है। इस मंत्र का जाप करने से बुद्धि, रचनात्मकता, और ज्ञान में वृद्धि होती है. यह मंत्र शिक्षा और ज्ञान प्राप्त करने के लिए शक्तिशाली माना जाता है. इस मंत्र का जाप एक लाख बार करना चाहिए.

वाग की देवी सरस्वती को प्रणाम।

Hindi Translation

Buy Latest Products

Built in Kashi for the World

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः