दत्तो दीपश्चतुर्दश्यां नरकप्रीतये मया।
चतुर्वर्तिसमायुक्तः सर्वपापपनुत्तये॥

Datto Dipashchaturdashyam Narakapritaye Maya।
Chaturvartisamayuktah Sarvapapapanuttaye॥

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on telegram

भावार्थ - Translations

आज चतुर्दशी के दिन नरक के अभिमानी देवता की प्रसन्नता के लिए तथा समस्त पापों के विनाश के लिए मैं चार बत्तियों वाला चौमुखा दीप अर्पित करता हूँ।

On this Chaturdashi day, for the appeasement of the Deity of Hell and for the obliteration of all sins I offer this four-faced, four wicks lamp.

இந்த சதுர்தாஷி நாளில், நரகத்தின் தெய்வத்தை திருப்திப்படுத்துவதற்கும், அனைத்து பாவங்களையும் அழிப்பதற்கும் நான் இந்த நான்கு முகம் கொண்ட, நான்கு விக்ஸ் விளக்கை வழங்குகிறேன்.

Brahma Sangrahalaya
Help us build the   most Accurate and Complete
Shloka Library

Take part in a small survey to help build a digital dharmic library for generations to come. 

More Shlok's

Articlesब्रह्मलेख

• 15 hours ago
इस संसार में असंख्य व्यक्ति ऐसे हैं जो साधन संपन्न होने पर भी चिंतित और उद्विग्न दिखाई देते हैं । यदि गहराई से देखा जाए...

Share now...

• 1 week ago
The Vedas however are not as well known for pre-senting historical and scientific knowledge as they are for expounding subtle sciences, such as the power...

Share now...

• 3 weeks ago
दीपावली प्रकाश पर्व है, ज्योति का महोत्सव है । दीपावली जितना अंत: लालित्य का उत्सव है, उतना ही बाह्यलालित्य का। जहाँ सदा उजाला हो, साहस...

Share now...

• 3 weeks ago
चिंता व तनाव हमारे लिए फायदेमंद भी हैं और नुकसानदेह भी । किसी भी कार्य के प्रति चिंता व तनाव का होना, हमारे मन में...

Share now...

• 3 weeks ago
Naturally the law of Karma leads to the question– ‘What part does Isvara (God) play in this doctrine of Karma’ ? The answer is that...

Share now...

• 4 weeks ago
Earlier, it was said that in India philosophy itself was regarded as a value and also that value and human life are inextricably blended. What...

Share now...

Brahma Logo White
दत्तो दीपश्चतुर्दश्यां नरकप्रीतये मया। चतुर्वर्तिसमायुक्तः सर्वपापपनुत्तये॥

दत्तो दीपश्चतुर्दश्यां नरकप्रीतये मया।
चतुर्वर्तिसमायुक्तः सर्वपापपनुत्तये॥

Datto Dipashchaturdashyam Narakapritaye Maya।
Chaturvartisamayuktah Sarvapapapanuttaye॥

आज चतुर्दशी के दिन नरक के अभिमानी देवता की प्रसन्नता के लिए तथा समस्त पापों के विनाश के लिए मैं चार बत्तियों वाला चौमुखा दीप अर्पित करता हूँ।
On this Chaturdashi day, for the appeasement of the Deity of Hell and for the obliteration of all sins I offer this four-faced, four wicks lamp.
இந்த சதுர்தாஷி நாளில், நரகத்தின் தெய்வத்தை திருப்திப்படுத்துவதற்கும், அனைத்து பாவங்களையும் அழிப்பதற்கும் நான் இந்த நான்கு முகம் கொண்ட, நான்கு விக்ஸ் விளக்கை வழங்குகிறேன்.

@beLikeBrahma