विद्यां चाविद्यां च यस्तद्वेदोभ्य सह ।
अविद्यया मृत्युं तीर्त्वाऽमृतमश्नुते ॥

vidyāṃ cāvidyāṃ ca yastadvedobhya saha |
avidyayā mṛtyuṃ tīrtvā’mṛtamaśnute ||

भावार्थ

Shloka Translation's

जो विद्या और अविद्या-इन दोनों को ही एक साथ जानता है, वह अविद्या से मृत्यु को पार करके विद्या से अमृतत्त्व (देवतात्मभाव = देवत्व) प्राप्त कर लेता है।

जो तत् को इस रूप में जानता है कि वह एक साथ विद्या और अविद्या दोनों है, वह अविद्या से मृत्यु को पार कर विद्या से अमरता का आस्वादन करता है।

Sharing is Karma
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on telegram
Commets
Brahma is a crowd-oriented Dharmic Engine.

We are collecting and structuring the Dharmic wisdom of Bharat & Sanatan. Your actions can help build and structure it better.

More Shloka to explore

Brahma Sangrahalaya
Help us build the   most Accurate and Complete
Shloka Library

Take part in a small survey to help build a digital dharmic library for generations to come. 

tada-drashtu

Articlesब्रह्मलेख

Brahma Logo - White
Isovaasya Upanishad

विद्यां चाविद्यां च यस्तद्वेदोभ्य सह ।
अविद्यया मृत्युं तीर्त्वाऽमृतमश्नुते ॥

vidyāṃ cāvidyāṃ ca yastadvedobhya saha |
avidyayā mṛtyuṃ tīrtvā’mṛtamaśnute ||

जो विद्या और अविद्या-इन दोनों को ही एक साथ जानता है, वह अविद्या से मृत्यु को पार करके विद्या से अमृतत्त्व (देवतात्मभाव = देवत्व) प्राप्त कर लेता है।
जो तत् को इस रूप में जानता है कि वह एक साथ विद्या और अविद्या दोनों है, वह अविद्या से मृत्यु को पार कर विद्या से अमरता का आस्वादन करता है।

@beLikeBrahma

Get important alerts about new content! We don't send spam notifications.
Dismiss
Allow Notifications