अलसस्य कुतो विद्या ,अविद्यस्य कुतो धनम् । अधनस्य कुतो मित्रम् ,अमित्रस्य कुतः सुखम् ॥

alasasy kuto vidyaa , avidyasy kuto dhanam । adhanasy kuto mitram , amitrasy kutah sukham ॥

Shlok Meaning

Hindi Translation

जो आलस करते हैं उन्हें विद्या नहीं मिलती, जिनके पास विद्या नहीं होती वो धन नहीं कमा सकता, जो निर्धन हैं उनके मित्र नहीं होते और मित्र के बिना सुख की प्राप्ति नहीं होती ।

Hindi Translation

आलसी इन्सान को विद्या कहाँ ? विद्याविहीन को धन कहाँ ? धनविहीन को मित्र कहाँ ? और मित्रविहीन को सुख कहाँ ?

Hindi Translation

आलसी को विद्या कहाँ अनपढ़ / मूर्ख को धन कहाँ निर्धन को मित्र कहाँ और अमित्र को सुख कहाँ |

English Translation

Lazy cannot acquire knowledge. Without knowledge, wealth cannot be had. Without wealth, you cannot get friends and without friends, there is no happiness.

Marathi Translation

आळशी माणसाला विद्या कशी मिळणार, ज्याच्याकडे विद्या नाही त्याला संपत्ती कशी मिळणार, ज्याच्याकडे संपत्ती नाही त्याला मित्र कुठून आणि मित्र नसलेल्याला सुख कसे मिळणार? (थोडक्यात आळशी माणसाला सुख मिळणे अवघड आहे).

Hindi Commentary

चाणक्य कहते हैं  कि, विद्यार्थी  को यदि सुख की इच्छा है और यदि वह परिश्रम करना नहीं चाहता तो उसे विद्या प्राप्त करने की इच्छा का त्याग कर देना चाहिए | यदि वह विद्या चाहता है तो उसे सुख-सुविधाओं का त्याग करना होगा| क्योकि सुख चाहने वाला विद्या प्राप्त नहीं कर सकता | दूसरी ओर विद्या प्राप्त करने वालो को आराम नहीं मिल सकता |सुख  और विद्याप्राप्ति में वैसे ही संधि असंभव है , जैसे प्रकाश और अंधकार का मेल| एक के रहते दूसरे का अस्तित्व खोया सा रहता है | 

चाणक्य

How are you feeling?

Share the Sanatan wisdom

Soulful Sanatan Creations

Explore our Spiritual Products & Discover Your Essence
Sanskrit T-shirts

Sanskrit T-shirts

Explore Our Collection of Sanskrit T-Shirts
Best Sellers

Best Sellers

Discover Our Best-Selling Dharmic T-Shirts
Yoga T-shirts

Yoga T-shirts

Find Your Inner Zen with our Yoga Collection
Sip in Style

Sip in Style

Explore Our Collection of Sanatan-Inspired Mugs