ॐ पूर्णमदः पूर्णमिदं पूर्णात्पूर्णमुदच्यते ।
पूर्णस्य पूर्णमादाय पूर्णमेवावशिष्यते ॥

ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

Om Purnamadah Purnamidam Purnat Purnamudachyate।
Purnasya Purnamadaya Purnamevavashisyate॥

Om Shanti Shamti Shanti॥

ओम्! वह अनंत है, और यह (ब्रह्मांड) अनंत है। अनंत से अनंत की प्राप्ति होती है। (तब) अनंत (ब्रह्मांड) की अनंतता लेते हुए, वह अनंत के रूप में अकेला रहता है। ओम्! शांति! शांति! शांति!

Om! That is the whole. This is the whole. From wholeness emerges wholeness. Wholeness coming from wholeness, wholeness still remains.

वह पूर्ण था/है सृष्टी उत्पत्ती के पहले भी, उत्पत्ती के बाद भी यह पूर्ण है , मतलब एक पूर्ण से दुसरा एक पूर्ण पैदा हुआ वह भी पूर्ण ही है । पूर्ण से पूर्ण निकलने के बाद भी जो बचा हुआ है वह भी पूर्ण ही है ! ओम्! शांति! शांति! शांति!

वह परब्रह्म पूर्ण है, पूर्णता से ही पूर्ण उत्पन्न होता है। यह कायाात्मक पूर्ण कारणात्मक पूर्ण से ही उत्पन्न होता है। उस पूर्ण की पूर्णता को लेकर भी यह पूर्ण ही शेष रहता है। हमारे, अनिभौनतक, अनिदैनिक तथा तथा आध्यान्तत्मक तापों (दुखों) की शांति हो।

Aum! That is infinite, and this (universe) is infinite. The infinite proceeds from the infinite. Taking the infinitude of the infinite, It remains as the infinite alone. Aum! Peace! Peace! Peace!

Share this Shlok
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on telegram

Trending Shloka

Latest Shloka in our Sangrah

A futuristic Library of Bhartiye Wisdom.

Brahma is building the biggest open-source collection of eternal Bhartiye Gyan in all forms. If you are enlightened do join our team of change-makers.

Brihadaranyaka Upanishad

ॐ पूर्णमदः पूर्णमिदं पूर्णात्पूर्णमुदच्यते ।
पूर्णस्य पूर्णमादाय पूर्णमेवावशिष्यते ॥

ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

Om Purnamadah Purnamidam Purnat Purnamudachyate।
Purnasya Purnamadaya Purnamevavashisyate॥

Om Shanti Shamti Shanti॥

ओम्! वह अनंत है, और यह (ब्रह्मांड) अनंत है। अनंत से अनंत की प्राप्ति होती है। (तब) अनंत (ब्रह्मांड) की अनंतता लेते हुए, वह अनंत के रूप में अकेला रहता है। ओम्! शांति! शांति! शांति!
Om! That is the whole. This is the whole. From wholeness emerges wholeness. Wholeness coming from wholeness, wholeness still remains.
वह पूर्ण था/है सृष्टी उत्पत्ती के पहले भी, उत्पत्ती के बाद भी यह पूर्ण है , मतलब एक पूर्ण से दुसरा एक पूर्ण पैदा हुआ वह भी पूर्ण ही है । पूर्ण से पूर्ण निकलने के बाद भी जो बचा हुआ है वह भी पूर्ण ही है ! ओम्! शांति! शांति! शांति!
वह परब्रह्म पूर्ण है, पूर्णता से ही पूर्ण उत्पन्न होता है। यह कायाात्मक पूर्ण कारणात्मक पूर्ण से ही उत्पन्न होता है। उस पूर्ण की पूर्णता को लेकर भी यह पूर्ण ही शेष रहता है। हमारे, अनिभौनतक, अनिदैनिक तथा तथा आध्यान्तत्मक तापों (दुखों) की शांति हो।
Aum! That is infinite, and this (universe) is infinite. The infinite proceeds from the infinite. Taking the infinitude of the infinite, It remains as the infinite alone. Aum! Peace! Peace! Peace!

@beLikeBrahma