अहम् ब्रह्मास्मि

विश्वगुरु भारत की चेतना को विश्व पटल पर जोड़ने के लिए १ चतुर्मुखी उद्यम

Collectionब्रह्मसंग्रह

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!

Topicsविषय

Brahma

Aham

Brahma

Dharma

Brahma

Hindu

Brahma

Dharm

Brahma

Jivan

Brahma

Parivartan

Brahma

Sanskriti

Brahma

Samaaj

Brahma

Karma

Brahma

Bharat

Brahma

Rashtra

Brahma

Brahmaand

śloka of the day

!! युग – युगांतर से कर्त्तव्य पथ का मार्गदर्शन करने वाले श्लोक !!

vyālāśrayāpi vikalāpi sakaṇṭakāpi
vakrāpi paṅkilabhavāpi durāsadāpi |
gandhena bandhurasi ketaki sarvajantā
reko guṇaḥ khalu nihanti samastadoṣān ||

Adhyay 17
Shloka 21
O ketki flower! Serpents live in your midst, you bear no edible fruits, your leaves are covered with thorns, you are crooked in growth, you thrive in mud, and you are not easily accessible. Still for your exceptional fragrance you are as dear as a kinsmen to others. Hence, a single excellence overcomes a multitude of blemishes.
हे केतकी पुष्प! तुममे तो कीड़े रहते है. तुमसे ऐसा कोई फल भी नहीं बनता जो खाया जाय. तुम्हारे पत्ते काटो से ढके है. तुम टेढ़े होकर बढ़ते हो. कीचड़ में खिलते हो. कोई तुम्हे आसानी से पा नहीं सकता. लेकिन तुम्हारी अतुलनीय खुशबु के कारण दुसरे पुष्पों की तरह सभी को प्रिय हो. इसीलिए एक ही अच्छाई अनेक बुराइयों पर भारी पड़ती है.

Articlesब्रह्मलेख

चिंतनशील लेखक, प्रगतिशील लेख