अहम् ब्रह्मास्मि

विश्वगुरु भारत की चेतना को विश्व पटल पर जोड़ने के लिए १ चतुर्मुखी उद्यम

Collectionब्रह्मसंग्रह

!! भारतीय ज्ञान और परंपरा का एक प्रगतिशील संग्रहालय  !!

Atamanirbhar Bharat Storeब्रह्माहाट

Art

śloka of the day

!! युग – युगांतर से कर्त्तव्य पथ का मार्गदर्शन करने वाले श्लोक !!

bhāṣāsu mukhyā madhurā divyā gīrvāṇabhāratī|
tatrāpi kāvyaṃ madhuraṃ tasmādapi subhāṣitam||

Of all the languages, the God’s own language- Sanskrit is the mother, divine and most lyrical language. In Sanskrit, poetry is more melodious wherein the good sayings hold prime position.
सभी भाषाओं में सबसे मुख्य, मधुर और दिव्य देवभाषा ‘संस्कृत’ है। उसमें भी काव्य और काव्य में भी सबसे मधुर सुभाषित वचन होते हैं।

ReSanskrit

Topicsविषय

Brahma

Aham

Brahma

Dharma

Brahma

Hindu

Brahma

Sanskriti

Brahma

Dharm

Brahma

Jivan

Brahma

Samaaj

Brahma

Bharat

Brahma

Parivartan

Brahma

Karma

Brahma

Bhakti

Brahma

Rashtra

Articlesब्रह्मलेख

चिंतनशील लेखक, प्रगतिशील लेख