जातस्य हि ध्रुवो मृत्युध्रुवं जन्म मृतस्य च।
तस्मादपरिहार्येऽर्थे न त्वं शोचितुमर्हसि।।

Jaatasya hi dhruvo mrityur dhruvam janma mritasya cha;
Tasmaad aparihaarye,rthe na twam sochitum arhasi.

"क्योंकि इस मान्यता के अनुसार जन्मे हुए की मृत्यु निश्चित है और मरे हुए का जन्म निश्चत है।इससे भी इस विना उपाय वाले विषय में तु शोक करने योग्य नहीं है।"

Share this Shlok
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on telegram

Trending Shloka

Latest Shloka in our Sangrah

A futuristic Library of Bhartiye Wisdom.

Brahma is building the biggest open-source collection of eternal Bhartiye Gyan in all forms. If you are enlightened do join our team of change-makers.

Shrimad Bhagavad Gita

जातस्य हि ध्रुवो मृत्युध्रुवं जन्म मृतस्य च।
तस्मादपरिहार्येऽर्थे न त्वं शोचितुमर्हसि।।

Jaatasya hi dhruvo mrityur dhruvam janma mritasya cha;
Tasmaad aparihaarye,rthe na twam sochitum arhasi.

"क्योंकि इस मान्यता के अनुसार जन्मे हुए की मृत्यु निश्चित है और मरे हुए का जन्म निश्चत है।इससे भी इस विना उपाय वाले विषय में तु शोक करने योग्य नहीं है।"

@beLikeBrahma